रविवार, 30 जून 2019

शुगर से बचाव

डायबिटिज क्या है ?

        डायबिटीज या शुगर या मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो तब होती है जब हमारा रक्त शर्करा बहुत अधिक होती है ।  रक्त ग्लूकोज हमारे ऊर्जा का मुख्य स्रोत है और हमारे द्वारा खाए गए भोजन से आता है। इंसुलिन, एक हार्मोन है जो अग्न्याशय द्वारा बनाया जाता है,  भोजन से ग्लूकोज को हमारी कोशिकाओं में ऊर्जा के लिए उपयोग करने में मदद करता है। कभी-कभी  हमारा शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाता है या अच्छी तरह से इंसुलिन का उपयोग नहीं करता ।  तब ग्लूकोज हमारे  रक्त में रहता है और हमारी कोशिकाओं तक नहीं पहुंचता है।  समय के साथ, हमारे रक्त में बहुत अधिक ग्लूकोज इकत्रित होने लगता है, इसे ही मधुमेह कहा जाता है ।  

         डायबिटीज या शुगर एक गंभीर समस्या है। पिछले कुछ दशकों में डायबिटीज के मरीजों की संख्या काफी बढ़ गई है। डायबिटीज के बारे में लोगों को जागरूक करने और इससे बचाव के लिए हर साल 14 नवंबर को विश्व डायबिटीज दिवस मनाया जाता है। डायबिटीज की स्थिति में मरीज के खून में शुगर घुलने लगता है, जिसके कारण कई तरह की परेशानियां शुरू हो जाती है। ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाने पर हार्ट अटैक, किडनी फेल्योर, फेफड़ों और लिवर की कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। डायबिटीज शरीर के साथ-साथ मस्तिष्क को भी प्रभावित करता है इसलिए इससे बचाव बहुत जरूरी है।  हालाँकि मधुमेह का कोई इलाज नहीं है, फिर भी  मधुमेह के प्रबंधन और स्वस्थ रहने के लिए कदम उठा सकते हैं।

डायबिटीज के  प्रकार-

मधुमेह सामान्यतः तीन प्रकार की होती है-

टाइप 1 डायबिटीज़-

यह एक असंक्राम‍क या स्वप्रतिरक्षित रोग है। स्वप्रतिरक्षित रोग का प्रभाव जब शरीर के लिए लड़ने वाले संक्रमण, प्रतिरक्षा प्रणाली के खिलाफ होता है तो यह स्‍थिति टाइप1 डायबिटीज़ की होती है। टाइप 1 डायबिटीज़ में प्रतिरक्षा प्रणाली पाचनग्रंथियां में इन्सुलिन पैदा कर बीटा कोशिकाओं पर हमला कर उन्‍हें नष्ट कर देती है। इस स्‍थिति में पाचन ग्रंथिया कम मात्रा में या ना के बराबर इन्सुलिन पैदा करती हैं। टाइप 1 डायबिटीज़ के मरीज़ को जीवन के निर्वाह के लिए प्रतिदिन इन्सुलिन की आवश्यकता होती है।

टाइप 2 डायबिटीज़-

टाइप 2 मधुमेह में शरीर इंसुलिन को अच्छी तरह से नहीं बनाता या उपयोग नहीं करता है। किसी भी उम्र में टाइप 2 मधुमेह विकसित हो सकता हैं, यहां तक कि बचपना में भी। हालांकि, इस प्रकार का मधुमेह ज्यादातर मध्यम आयु वर्ग और वृद्ध लोगों में होता है। टाइप 2 मधुमेह का सबसे आम प्रकार है



 45 वर्ष या अधिक आयु के लोगों में टाइप 2 मधुमेह विकसित होने की अधिक संभावना होती है ।यदि माता-पिता को मधुमेह होने पर टाइप 2 होनी की संभावाना रहती है । शरीर का अधिक वजन होने पर,  शारीरिक निष्क्रियता,  और कुछ स्वास्थ्य समस्याएं जैसे उच्च रक्तचाप होने पर टाइप 2 मधुमेह के विकास की संभावना को प्रभावित करते हैं। यदि महिला को गर्भवती होने पर  गर्भकालीन मधुमेह हो, तो टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना अधिक होती है। 

गर्भावधि मधुमेह-

गर्भवती होने पर गर्भकालीन मधुमेह कुछ महिलाओं में विकसित होता है। ज्यादातर बार, इस प्रकार का मधुमेह बच्चे के जन्म के बाद दूर हो जाता है। हालाँकि, यदि आपको गर्भकालीन मधुमेह होने पर जीवन में टाइप 2 मधुमेह विकसित होने की अधिक संभावना है। कभी-कभी गर्भावस्था के दौरान निदान किया गया मधुमेह वास्तव में टाइप 2 मधुमेह है।

अन्य प्रकार के मधुमेह-

कम सामान्य प्रकारों में मोनोजेनिक मधुमेह शामिल है, जो मधुमेह का एक विरासत में मिला हुआ रूप है, और सिस्टिक फाइब्रोसिस से संबंधित मधुमेह है।

मधुमेह अन्य बीमारियों का जनक- 
मधुमेह नियंत्रित नहीं होने पर अन्यों रोगों को पैदा कर सकता है, जिनमें प्रमुख रूप से दिल की बीमारी, आघात, गुर्दे की बीमारी, आँखों की समस्या, दंत रोग, नस की क्षति, पैरों की समस्या आदि ।

 हृदय रोग और स्ट्रोक
मधुमेह रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और हृदय रोग और स्ट्रोक का कारण बन सकता है। आप अपने रक्त शर्करा, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रबंधित करके हृदय रोग और स्ट्रोक को रोकने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं; और धूम्रपान नहीं करके।

निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया)-
हाइपोग्लाइसीमिया तब होता है जब आपका रक्त शर्करा बहुत कम हो जाता है। कुछ मधुमेह की दवाएं कम रक्त शर्करा को अधिक संभावना बनाती हैं। आप अपनी भोजन योजना का पालन करके और अपनी शारीरिक गतिविधि, भोजन और दवाओं को संतुलित करके हाइपोग्लाइसीमिया को रोक सकते हैं। नियमित रूप से आपके रक्त शर्करा का परीक्षण करने से भी हाइपोग्लाइसीमिया को रोकने में मदद मिल सकती है।

तंत्रिका क्षति (मधुमेह न्यूरोपैथी)-
मधुमेह न्यूरोपैथी तंत्रिका क्षति है जो मधुमेह से उत्पन्न हो सकती है। विभिन्न प्रकार के तंत्रिका क्षति आपके शरीर के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित करते हैं। आपके मधुमेह का प्रबंधन तंत्रिका क्षति को रोकने में मदद कर सकता है जो आपके पैरों और अंगों और आपके दिल जैसे अंगों को प्रभावित करता है।

गुर्दे की बीमारी-
मधुमेह गुर्दे की बीमारी, जिसे मधुमेह अपवृक्कता भी कहा जाता है, मधुमेह के कारण गुर्दे की बीमारी है। आप अपने मधुमेह के प्रबंधन और अपने रक्तचाप के लक्ष्यों को पूरा करके अपने गुर्दे की रक्षा करने में मदद कर सकते हैं।

पैर की समस्या-
मधुमेह तंत्रिका क्षति और खराब रक्त प्रवाह का कारण बन सकता है, जिससे पैर की गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। सामान्य पैर की समस्याएं, जैसे कि एक कॉलस, दर्द या एक संक्रमण हो सकता है जिससे चलना मुश्किल हो जाता है। 

नेत्र रोग-
मधुमेह आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है और कम दृष्टि और अंधापन को जन्म दे सकता है। आंखों की बीमारी को रोकने का सबसे अच्छा तरीका आपके रक्त शर्करा, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल का प्रबंधन करना है; और धूम्रपान नहीं करने के लिए। इसके अलावा, साल में कम से कम एक बार आंखों की जांच करवाएं।

दंत समस्याएं-
मधुमेह से आपके मुंह में समस्याएं हो सकती हैं, जैसे संक्रमण, मसूड़ों की बीमारी या शुष्क मुंह। अपने मुंह को स्वस्थ रखने में मदद करने के लिए, अपने रक्त शर्करा का प्रबंधन करें, अपने दांतों को दिन में दो बार ब्रश करें, अपने दंत चिकित्सक को वर्ष में कम से कम एक बार देखें, और धूम्रपान न करें।

यौन और मूत्राशय की समस्याएं-
मधुमेह वाले लोगों में यौन और मूत्राशय की समस्याएं अधिक होती हैं। इरेक्टाइल डिसफंक्शन, सेक्स में रुचि की कमी, मूत्राशय के रिसाव, और बनाए रखा मूत्र जैसी समस्याएं हो सकती हैं यदि मधुमेह आपके रक्त वाहिकाओं और नसों को नुकसान पहुंचाता है।

मधुमेह के लक्षण-
मधुमेह के सामान्य लक्ष्णों में भूख बढ़ना, प्यास बढ़ना, पेशाब अधिक बार जाना, आँखों से साफ न दिखना,, जल्दी थकान आना, घाव, चोट का जल्दी ठीक न होना होता है । पुरूषों में सामान्यतः सेक्स के प्रति अरूचि या शक्ति में कमी होना इसका लक्ष्ण हैं ।  महिलाओं में मूत्र में संक्रमण, सूखापन, खुजली आदि लक्ष्ण हैं ।

मधुमेह के सामान्य परीक्षण एवं सामान्य स्तर-
उपवास रक्त शर्करा परीक्षण- रात भर के उपवास के बाद रक्त का नमूना लिया जाएगा। 100 मिलीग्राम / डीएल (5.6 मिमीओल / एल) से कम उपवास रक्त शर्करा का स्तर सामान्य है। 100 से 125 मिलीग्राम / डीएल (5.6 से 6.9 मिमील / एल) से उपवास रक्त शर्करा के स्तर को प्रीबायोटिक माना जाता है। यदि यह 126 मिलीग्राम / डीएल (7 मिमील / एल) या दो अलग-अलग परीक्षणों पर अधिक है, तो आपको मधुमेह है।
मौखिक ग्लूकोज सहिष्णुता परीक्षण। इस परीक्षण के लिए, आप रात भर उपवास करते हैं, और उपवास रक्त शर्करा के स्तर को मापा जाता है। फिर आप एक शर्करा तरल पीते हैं, और अगले दो घंटों के लिए रक्त शर्करा के स्तर की समय-समय पर जांच की जाती है। सामान्य या गैर-मधुमेह वाले व्यक्तियों में खाली पेट 72 से 99 मिलीग्राम/डीएल की रेंज में ब्लड शुगर होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद 140 मिलीग्राम/डीएल से कम होना चाहिए। वहीं, मधुमेह के मरीज़ का ब्लड शुगर लेवल खाली पेट 126 मिलीग्राम/डीएल या अधिक होता है, जबकि खाने के दो घंटे बाद 180 मिलीग्राम / डीएल या उससे ज़्यादा होता है। इसका अर्थ यह हुआ कि प्रिडाइिअटिज पेंसेट का शुगर लेबल खाली पेट 126 मिलीग्राम/डीएल से कम और भोजन केदो घंटे बाद 180 मिलीग्राम / डीएल से कम  हो तो उसका शुगर नियंत्रण में है उसे घबराने की जरूरत  नहीं है ।

मधुमेह का उपचार-ऐसे तो चिकित्सा के सभी पद्धतियों में मधुमेह का उपचार होने के साथ-साथ लाखों घरेलू नूसखें हैं किन्तु कोई भी उपचार इसे जड़ से खत्म नहीं कर सकता  अतः मधुमेह से बचाव अथवा इसे नियंत्रित करने की उपाय ही इसका सर्वोत्तम उपचार है ।

शुगर से बचाव या नियत्रंण के उपाय- शुगर एक लाइलाज बीमारी है ।  इसे जड़ से खत्म नही किया जा सकता किन्तु इससे बचा जा सकता है ।   यदि हो वो भी जाये तो घबराने की बजाये इसे नियत्रिंत करने के उपाय कियो जाने चाहिये ।

वजन को नियंत्रण में रखें - हमेशा अपने वज़न का ध्यान रखें। मोटापा अपने साथ कई बीमारियों को लेकर आता है और डायबिटीज़ भी उन्हीं में से एक है। अगर आपका वज़न ज़रूरत से ज़्यादा बढ़ा हुआ या कम है, तो उस पर तुरंत ध्यान दें और वक़्त रहते इसे नियंत्रित करें।

तनाव से दूर रहें - मधुमेह होने के पीछे तनाव भी ज़िम्मेदार होता है। इसलिए, यह ज़रूरी है कि अपने मन को शांत रखें और उसके लिए आप योगासन व ध्यान यानी मेडिटेशन का सहारा लें।
नींद पूरी करें - पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं लेने से या नींद पूरी नहीं होने से भी कई बीमारियां होती हैं। डायबिटीज़ भी उन्हीं में से एक है। इसलिए समय पर सोएं और समय पर उठें।
धूम्रपान से दूर रहें - धूम्रपान से न सिर्फ लंग्स पर असर होता है, बल्कि अगर कोई मधुमेह रोगी धूम्रपान करता है, तो उसे ह््दय संबंधी रोग होने का ख़तरा बढ़ जाता है।

व्यायाम करें - शारीरिक क्रिया स्वास्थ्य के लिए बहुत ज़रूरी है, क्योंकि अगर कोई शारीरिक श्रम नहीं होगा, तो वज़न बढ़ने का ख़तरा बढ़ जाता है और फ़िर मधुमेह हो सकता है। इसलिए, जितना हो सके व्यायाम करें। अगर व्यायाम करने का मन न भी करें तो सुबह-शाम टहलने जरूर जाएं, योगासन करें या सीढ़ियां चढ़ें।

सही आहार - शुगर के मरीज़ों को अपने खान-पान का ख़ास ध्यान रखना चाहिए। शुगर में परहेज करने के लिए जितना हो सके बाहरी और तैलीय खाद्य पदार्थों से दूर रहें, क्योंकि इससे वज़न बढ़ने का ख़तरा रहता है और फिर मधुमेह। सही आहार अपनाएं, प्रोटीन व विटामिन युक्त खाद्य पदार्थों को अपने डाइट में शामिल करें।
सही मात्रा में पानी पिएं - आपने एक कहावत तो सुनीं ही होगी कि ‘जल ही जीवन है’। हमारे शरीर को पानी की सख्त ज़रूरत होती है, क्योंकि एक व्यस्क के शरीर में 60 प्रतिशत पानी होता है। सबसे ज़्यादा पानी एक शिशु और बच्चे में होता है।  पानी से कई बीमारियां ठीक होती हैं। मधुमेह के रोगियों के लिए भी पानी बहुत आवश्यक है। इसलिए, जितना हो सके पानी पिएं।


नियमित रूप से जांच - अपने ब्लड शुगर लेवल को जानने के लिए नियमित रूप से अपना डायबिटीज़ टेस्ट कराते रहें और उसका एक चार्ट बना लें, ताकि आपको अपने डायबिटीज़ के घटने-बढ़ने के बारे में पता रहे।

नियमित जांच से प्राप्त आंकड़ों पर कड़ी नजर रखें और हर स्थिंति में शुगर लेबल को  खाली पेट 126 मिलीग्राम/डीएल से कम और भोजन के दो घंटे बाद 180 मिलीग्राम / डीएल से कम  करने का प्रयास करें । यही सर्वोत्म उपचार होगा ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें